Sunday, October 24, 2010

CHAR DIN KI ZINDAGI

"Maang laya tha khuda se,
zindagi ke char din udhar.
Do din arzoo me kate
aur do din kiya intzaar."

1 comment:

  1. बहुत सुन्दर अच्छी लगी आपकी हर पोस्ट बहुत ही स्टिक है आपकी हर पोस्ट कभी अप्प मेरे ब्लॉग पैर भी पधारिये मुझे भी आप के अनुभव के बारे में जनने का मोका देवे
    दिनेश पारीक
    http://vangaydinesh.blogspot.com/ ये मेरे ब्लॉग का लिंक है यहाँ से अप्प मेरे ब्लॉग पे जा सकते है

    ReplyDelete